Stri Or Purush Ke Liye Sambhog Ke Tips Hindi Me

Stri Or Purush Ke Liye Sambhog Ke Tips Hindi Me

स्त्री और पुरूष के लिए संभोग के टिप्स हिंदी में

स्त्री और पुरूष की ‘संभोग-इच्छा’ एक साथ कैसे जागृत हो?

यह वाकई एक सोचने की बात है कि ऐसा माहौल या वातावरण कैसे उत्पन्न हो कि अचानक पति-पत्नी या स्त्री-पुरूष को एक साथ उत्तेजना महसूस होने लगे और दोनों संभोग के लिए लालायित हो जायें। या फिर ऐसा क्या करें कि जब स्त्री और पुरूष दोनों में से कोई एक उत्तेजित हो, तो दूसरा पार्टनर भी उसी समय उत्तेजित होकर संभोग के लिए तैयार हो जाये।
उदाहरण के तौर पर मान लीजिए रात के लगभग 12 बज रहे हों और आपकी पार्टनर सो चुकी हों और एकाएक आप उत्तेजित हो जायें, तो आपके मन में उस समय यही बात आयेगी कि काश जब आप अपनी पार्टनर को जगायें तो वह भी जल्द उत्तेजित हो जाये।
या फिर एक अन्य उदाहरण में आप और आपकी पत्नी दोपहर में भोजन करने के बाद अपने बेडरूम में हों और आपकी पत्नी किसी हिंदी पुस्तक या नाॅवल में इतनी खोयी हुई हो कि उसे आपकी भी सुध न हो और ऐसे में अचानक आप उत्तेजित हो जायें तो… अब आप ही सोचिए कैसे आपकी ही तरह आपकी पत्नी भी उसी समय उत्तेजित होगी? हो सकता है कि आपकी खुशी के लिए आपकी पत्नी आपके सामने दिखावा करे कि वह भी उत्तेजित हो गई है और आपके साथ संभोग के लिए राजी है।

आप यह आर्टिकल sambhog.co.in पर पढ़ रहे हैं..

यहां आपको संभोग से जुड़े कुछ तथ्य बताये जा रहे हैं, जिन्हें स्त्री और पुरूष दोनों को समझना बहुत जरूरी है..

1. केवल दिखावे और बाहरी मन से संभोग न करें

संभोग कोई आपके घर में आया हुआ अतिथि नहीं है, जिसके साथ व्यवहारिक औपचारिकता की जाये, संभोग तो तन और मन में आया हुआ वो जोश व उत्साह है, जिसको पूरे तन और मन से किया जाये तो आनंद दोगुना हो जाता है। स्त्री और पुरूष केवल औपचारिकता समझ कर संभोग न करें बल्कि इसलिए और ये सोचकर करें कि संभोग में आपको विशेष आनंद आता है और संभोग करना आपको पसंद है।
अधिकतर स्त्रियां केवल अपने पुरूष साथी की खुशी या फिर उनका दिल रखने के लिए संभोग करती हैं, चाहे उनका मन उस समय संभोग के लिए बिल्कुल ना हो। जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए। यदि स्त्रियां हर समय इसी सोच और धारणा के साथ संभोग करेंगी, तो एक दिन वो भी आयेगा कि आप सचमुच में यह मानने लगेंगी कि वाकई आप संभोग के लिए नहीं बनी हैं। आपका संभोग-आनंद से दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं है। आपको संभोग करना पसंद बिल्कुल पसंद नहीं है।
सेक्स का आनंद प्राप्त करना केवल सहूलियत ही नहीं, बल्कि जरूरत भी है। अगर मैथुन से पूर्व आप पूरी तरह उत्तेजित नहीं होंगी, तो आपकी यौन स्थली बिना चिकनाई के रहेगी। इस स्थिति में आपको सहवास के दौरान कष्ट का अनुभव भी हो सकता है।

2. पुरूषों की ही भांति स्त्रियों को भी संभोग में आनंद अनुभव करना चाहिए

Stri Or Purush Ke Liye Sambhog Ke Tips Hindi Me

कई स्त्रियां इस सच को स्वीकार करने से कतराती हैं कि उन्हें संभोग करना अच्छा नहीं लगता, क्योंकि उन्हें इसमें आनंद का अनुभव ही नहीं होता। ऐसा भी हो सकता है क्योंकि कई बार यह भी होता है कि स्त्री को संभोग में रूचि तो होती है, लेकिन उन्हें संभोग ही ऐसा प्राप्त हो रहा होता है, कि उन्हें आनंद ही नहीं मिल पाता। जब सामने से ही मिल रहा संभोग आनंददायक नहीं होगा, तो ऐसे में स्त्री क्या करेगी।
इसलिए स्त्रियों को संभोग के प्रति अपनी मनोदशा व विचारों को बदलना होगा। स्त्रियां यह सोचें कि संभोग में उन्हें कैसा आनंद चाहिए, ना कि यह कि उन्हें संभोग में कैसा आनंद नहीं चाहिए।

यह भी पढ़ें- शीघ्रपतन

3. बिना पार्टनर की इच्छा व सहमति के पास न जायें

कई पुरूष इतने उतावले होते हैं कि बिना स्त्री की मनोदशा जानें, उनकी इच्छा व सहमति जानें उनसे संभोग की इच्छा जताने लगते हैं। उनके अंगों से छेड़छाड़ करने लगते हैं। हमेशा आपकी पार्टनर की मानसिक स्थिति या हालात एक-से नहीं होते। हो सकता है वो किसी तनाव में हो या फिर किसी गहरे दुख में हो या फिर कुछ भी न हो, मगर उनका दिल संभोग के लिए राजी नहीं है, तो ऐसी स्थिति में पुरूषों को चाहिए कि स्त्रियों की इच्छा और भावनाओं का सम्मान करे। अगर आप उनकी इच्छा के विरूद्ध उनसे संभोग करेंगे, तो ऐसे में उन्हें आनंद कभी भी प्राप्त नहीं हो सकता। हां, मानसिक प्रताड़ना और कष्ट का अनुभव जरूर हो सकता है।

4. मन बनाना

संभोग के लिए किसी भी वक्त मन बनाने की प्रबल शक्ति, स्त्रियों के मुकाबले पुरूषों में अधिक होती है। क्योंकि कई ऐसी चीजें हैं, जिनसे पुरूष एकदम से उत्तेजित हो जाते हैं। उदाहरण के लिए मान लीजिए कि अगर कोई स्त्री, पुरूष के सामने अपने अंतःवस्त्र(ब्रा-पैंटी) में हो, तो पुरूष उसी समय तुरन्त उत्तेजित हो जायेंगे। किन्तु स्त्रियों में यह भावना कम ही देखने को मिलती है या फिर मिलती ही नहीं।
लेकिन फिर भी रिसर्च के अनुसार यदि पुरूष को स्त्री को उत्तेजित करना हो, तो पुरूष का व्यक्तित्व और रूप-रंग में आकर्षण होना अनिवार्य है। यानी एक महिला तभी सबसे ज्यादा उत्तेजित होती है, जब उसका पार्टनर आकर्षक पर्सनेलिटी वाला हो। यहां मैं स्त्रियों के लिए कहना चाहूंगा कि अगर आप अपने पार्टनर में सुंदरता व आकर्षण देखना चाहती हैं, तो आप अपने पुरूष साथी को वैसा रहने को कहें। जैसे कि आपको पुरूषों में दाढ़ी नहीं पसंद तो आप उनसे स्पष्ट कहें। उन्हें साफ-सुथरा रहने को कहें। अगर आपका पार्टनर आपके मुताबिक ही साफ-सुथरा और आकर्षक होगा तो आप संभोग में खुलकर आनंद ले पायेंगी और पूरे अच्छे मूड के साथ ले पायेंगी, जोकि आपका हक है।

Stri Or Purush Ke Liye Sambhog Ke Tips Hindi Me

यह भी पढ़ें- स्वप्नदोष

5. सम्भोग का कोई एक निश्चित सूत्र नहीं होता

संभोग के लिए उत्तेजना महसूस करने के लिए सर्वप्रथम स्त्रियों के लिए यह महसूस करना जरूरी है कि उनका पुरूष साथी उन्हें समझता है, उनकी कद्र करता है। अक्सर घरों में पति-पत्नी के बीच दिन में हुए कलेश व झगड़े रात में भी उनका पीछा बेडरूम तक नहीं छोड़ते। ऐसी स्थिति में महिलाओं में उत्तेजना लाना या फिर स्वयं महिला द्वारा अपने अंदर उत्तेजना महसूस करना, यह कोई आसान बात नहीं है। अब संभोग का कोई एक तय सूत्र यानी फाॅर्मूला तो है नहीं, कि फाॅर्मूला लगाया और आ गई उत्तेजना। बस कामेच्छा को जिंदा रखने के लिए लगातार कोशिश करते रहना चाहिए। क्योंकि लगातार प्रयास ही सफलता की कुंजी है और हो सकता है कि आपके जीवन में एक रात वो भी आये जब रात के 2 भी बज रहे हों, तो भी आप दोनों ही एक साथ संभोग की इच्छा हो।

सेक्स समस्या से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..http://chetanonline.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *