Shaadishuda Stri-Purush Jane Sambhog Ka Sahi Gyan शादीशुदा स्त्री-पुरूष जानें संभोग का सही ज्ञान

Shaadishuda Stri-Purush Jane Sambhog Ka Sahi Gyan शादीशुदा स्त्री-पुरूष जानें संभोग का सही ज्ञान

संभोग का सही ज्ञान-

शादीशुदा लोगों को सम्भोग ज्ञान यानी सेक्स शिक्षा की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। इसके अभाव में कई बार उनसे गलतियां हो जाती हैं। जिसमें से प्रमुख हैं अनचाहा गर्भ व यौन रोग। सेक्स की सही शिक्षा नहीं मिलने से शादीशुदा लोगों में सुरक्षित यौन संबंधों के बारे में जानकारी नहीं होती है, जिसकी वजह से वे यौन रोगों का शिकार हो जाते हैं। ऐसे में सेक्स शिक्षा अथवा सम्भोग ज्ञान ही इसका सबसे बड़ा बचाव है।

विश्व के सभी सेक्स विशेषज्ञों का मानना है कि लड़के-लड़कियों को युवावस्था से पहले ही सेक्स से संबंधित शिक्षा दी जानी चाहिए। युवावस्था के समय यदि लड़के-लड़कियों को सेक्स के बारे में सही जानकारी दी जाए, तो उन्हें विवाहित जीवन में किसी प्रकार की समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा और अपने अधूरे ज्ञान के कारण विवाहित जीवन को बर्बाद करने से भी बच जाएगा।

भारत में विवाह के लिए लड़की की उम्र 18 वर्ष मानी गई है। जब लड़की 18 वर्ष की हो जाती है तो उसे विवाह के योग्य समझ कर उसकी शादी कर दी जाती है।

Shaadishuda Stri-Purush Jane Sambhog Ka Sahi Gyan

इसे भी पढ़ें- शीघ्रपतन

लेकिन सेक्स शिक्षा के अभाव में उसे कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्या से लड़ना पड़ता है। पिछड़े इलाकों में सेक्स शब्द का नाम लेना गलत समझा जाता है, जिसकी वजह से लड़कियों को सेक्स की सही शिक्षा नहीं मिल पाती है। लेकिन जैसे-जैसे लड़कियां शिक्षित होने लगी हैं, वैसे-वैसे लड़कियों में सेक्स को लेकर फैली अज्ञानता दूर होने लगी है।

आज 50-55 प्रतिशत लड़कियां यह मानने लगी हैं कि महिलाओं के लिए विवाहित जीवन में सेक्स ज्ञान का होना बेहद आवश्यक है। यहां तक कि स्त्री-पुरुष दोनों ही इस बात को मानने लगे हैं कि विवाहित जीवन को सफल और सुखमय बनाने के लिए सेक्स ज्ञान कितना आवश्यक है।

आप यह आर्टिकल sambhog.co.in पर पढ़ रहे हैं..

सेक्स शिक्षा के फायदे-

Shaadishuda Stri-Purush Jane Sambhog Ka Sahi Gyan

1. शादीशुदा लोगों को सेक्स शिक्षा देने से उन्हें अनचाहे गर्भ की समस्या से बचाया जा सकता है, जिसकी वजह से एबाॅर्शन के मामले बढ़ते जा रहे हैं।

2. सेक्स शिक्षा से एचाईवी एड्स जैसे यौन रोगों से बचाव होता है। उन्हें कंडोम के इस्तेमाल के बारे में बताना चाहिए, जिसकी वजह से वे सुरक्षित यौन संबंध के लिए प्रेरित होते हैं, जिससे यौन रोगों से उनकी रक्षा होती है।

3. शादीशुदा लोगों को सेक्स शिक्षा देने से जनसंख्या वृद्धि रोकी जा सकती है। साथ ही उनको यह भी बताना चाहिए कि बच्चे को अच्छी परवरिश देने के लिए दो से ज्यादा बच्चे नहीं होने चाहिए।

4. सेक्स शिक्षा के अभाव के चलते लोगों में गलत धारणाएं पैदा होने लगती हैं। गलत जानकारी होने के कारण उनमें भ्रम और गलतफमियां पैदा हो जाती हैं जो जीवन में आगे चलकर परेशानी का कारण बन जाता है।

सेक्स से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..http://chetanclinic.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *