Kya Aap Jaante Hain Sambhog Ka Sahi Samay Kya Hai? क्या आप जानते हैं संभोग का सही समय क्या है?

Kya Aap Jaante Hain Sambhog Ka Sahi Samay Kya Hai? क्या आप जानते हैं संभोग का सही समय क्या है?

Kya Aap Jaante Hain Sambhog Ka Sahi Samay Kya Hai?

संभोग का सही समय-

संभोग केवल अपनी कामेच्छा या उत्तेजना की तृप्ति के लिए या संतान पैदा करने के लिए ही नहीं होता और ना ही ये कोई आपकी नौकरी, व्यवसाए या ऑफिस का हिस्सा है, जिसे औपचारिकतावश करना ही करना है। सेक्स तो मनुष्य की विशेष प्रकार के प्रेम को दशाने की एक कला है, जिसे उचित समय और परिवेश में करते रहना चाहिए। प्रेम संबंधों के स्थायित्व की प्रतिभूति है सेक्स। सेक्स करना एक प्रकार से मनुष्य की सभी इन्द्रियों के लिए एक सम्पूर्ण व्यायाम है।
संभोग से अभिप्राय है सम और भोग यानी समान रूप से किया गया भोग। दो शरीरों द्वारा आपस में किया गया समान भोग, जिसमें समान आनंद और समान संतुष्टी की बहुत बड़ी भूमिका होती है। इसके लिए लंबा सेक्स तो जरूरी है ही, साथ ही दो अवस्थाएं भी जरूरी हैं।

चलिए चर्चा करते हैं क्या है प्रभावशाली सेक्स का उपर्युक्त समय..

1. आनंदमय सेक्स के लिए आवश्यक है मानसिक शान्ति:

Sambhog.co.in

सेक्स के लिए सबसे जरूरी होती है मन का शांत होना और खुश होना। मन में किसी बात की चिंता या झुंझलाहट नहीं होनी चाहिए। मैथुन कोई नशा नहीं है, जिसे थकावट दूर करने के लिए, गुस्सा दूर करने के लिए या चिड़चिड़ाहट होने पर रिलैक्स होने के लिए किया जाए। मैथुन को अगर धैर्य और शांत मन से धीरे-धीरे किया जाये, तो इससे सेक्सक्रीड़ा का आनंद दोगुना तो हो ही जाता है, बल्कि स्त्री-पुरूष के यौनिक रिश्ते की मधुरता भी बनी रहती है। मुख्य और ध्यान देने योग्य बात यह है कि शांत मन और बिना मानसिक दबाव में किया गया सेक्स हमेशा सकारात्मक और संतुष्टि देने वाला होता है।

इसे भी पढ़ें… धातु रोग

2. शारीरिक रूप से स्वस्थ होने पर ही करें सेक्सक्रीड़ा:

Sambhog.co.in

आदर्श सेक्सक्रीड़ा के लिए स्त्री और पुरूष दोनों का शारीरिकि रूप से स्वस्थ होना बहुत जरूरी होता है।

अगर आपका पार्टनर अस्वस्थ है या फिर किसी भी प्रकार के शारीरिक कष्ट से दुखी व पीड़ित है, तो उसे सेक्सक्रीड़ा के लिए विवश न करें और ना ही कोई दबाव बनायें।

ऐसा करना आपके आपसी रिश्तों के लिए घातक साबित हो सकता है। अगर आप ऐसा करेंगे, तो आपके प्रति आपके पार्टनर की सोच नकारात्मक रूप ले लेगी। वो आपको स्वार्थी समझने लगेगा। उसे लगेगा आपको केवल उसके शरीर से मतलब है। उसकी भावनाओं और सम्मान की आपको कोई कद्र नहीं है।

यह आर्टिकल आप पर sambhog.co.in पढ़ रहे हैं..

एक रिसर्च के मुताबिक, साथी के प्रति आपका प्यार और चिंता सेक्स संबंधों को न सिर्फ मधुर बनाते हैं, बल्कि आपके दैनिक जीवन में भी विश्वास और सम्मान का संचार करते हैं।

इसे भी पढ़ें… नामर्दी

3. सेक्स के लिए खुद बनायें समय:

Sambhog.co.in

जिस समय आपका मन सेक्स करने का हो, तो उसी समय आपका साथी भी इसके लिए तैयार हो, ऐसा जरूरी नहीं है। इसके लिए आपको चाहिए कि आप अपने प्रेम भरे प्रयासों से अपने पार्टनर को सेक्स के लिए तैयार करें। जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं कि मैथुन में विवशता या दबाव का कोई स्थान नहीं होना चाहिए। आपकी इच्छा सेक्स की है, तो आप अपने पार्टनर को भी इसके लिए इच्छुक बनायें। इसके लिए आप फोरप्ले, मीठी प्यार भरी बातें या रोमांटिक फिल्मों और गानों के द्वारा ऐसा कर सकते हैं। मैथुन के लिए सबसे बेहतर समय वही होता है, जब दोनों शरीर और मन प्रेमालाप के लिए आतुर हों। हालांकि मैथुन के लिए हर अनुकूलता वाला समय ठीक है, फिर भी इन समयों पर किया गया सेक्स आपसी प्रेम और विश्वास को ज्यादा प्रगाढ़ बनाता है।

4. सुबह-सुबह उठने से पहले:

Sambhog.co.in

रिसर्चकत्र्ताओं के मुताबिक, सुबह-सुबह महिला और पुरुष दोनों में टेस्टोस्टेरॉन का स्तर सबसे ऊपर होता है। यौन संबंधों के लिए टेस्टोस्टेरॉन पहली आवश्यकता है। माॅर्निंग सेक्स न केवल आपसी रिश्तों की मधुरता को बढ़ाता है, बल्कि यह शारीरिक रूप से भी बहुत लाभदायक है। इतना ही नहीं, इस समय एक असीम ऊर्जा का संचार शरीर में होता है। वहीं मानसिक रूप से भी दोनों कहीं उलझे हुए नहीं होते हैं। इस लिहाज से देखा जाए, तो मैथुन के लिए इससे बेहतर समय कोई दूसरा नहीं हो सकता। इससे आपके शरीर में उत्साह और स्फुर्ति बनी रहती है और दूसरे कार्यों भी मन अच्छे से लगा रहता है।

इसे भी पढ़ें… सुहागरात

5. अवकाश वाले दिन शाम को 8 से 10 का समय:

Sambhog.co.in

इस समय(शाम को 8 से 10 का समय) तक आप दिनभर के सभी कार्यों को निपटा चुके होते हैं और पूरी तरह फ्री होते हैं। केवल सुबह उठकर आॅफिस जाने की बात के अलावा और कोई अन्य बात आपके दिमाग में नहीं होती, इसलिए इस समय मैथुन
करना तनाव रहित मधुर भरा होता है।

6. रोमांटिक मूवी देखने के बाद:

Sambhog.co.in

जब कोई कपल्स एक साथ बैठकर कोई प्यार भरी रोमांटिक फिल्म देखते हैं, तो उनकी सेक्सुअल फिलिंग एक साथ जागृत होने लगती है। दोनों की ही शारीरिक और मानसिक दशा व इच्छाएं एक समान हो जाती हैं, जिससे संवेदनाएं प्रबल हो जाती हैं, आपस में हर प्रकार का सहयोग और आकर्षण बढ़ जाता है, जो न सिर्फ उत्तेजक ऊर्जा देता है, बल्कि मानसिक स्वीकृतियां भी बढ़ाता है।

7. परिवार में खुशनुमा पलों के बाद:

Sambhog.co.in

जब आपके परिवार में या रिश्तेदारी में कोई खुशनुमा माहौल होता है या उत्सव और पारिवारिक सम्मेलन में जब आप शामिल होते हैं, तो आपका पूरा ध्यान सारे काम-काज से दूर चला जाता है और आप चिंता से मुक्त अपनों से मिलकर जोश और खुशी से भर जाते हैं। फिर आपका खुशी से भरा मन अपनी भावनाएं व्यक्त करने के लिए माध्यम खोजने लगता है, इसके लिए सेक्स एक बेहतर साधन है।

8. कोई भी ऐसा अनुकूल समय जब आप अपने पार्टनर को चैंका सकें:

Sambhog.co.in

सरप्राइज़ सेक्स सबसे कारगर उपाय है आपसी प्यार और लगाव को बढ़ाने का। जब कभी भी आप अपने पार्टनर से कई दिनों के बाद मिलें या किसी व्यस्त कार्यक्रम में से समय निकाल कर प्यार करें, जैसे पत्नी के मायके में या किसी और बिज़ी शेड्यूल में। इस प्रकार के चैंका देने वाले मिलन संबंधों में न केवल रोमांचकता बढ़ाते हैं, बल्कि आपके पार्टनर को यह महसूस भी कराते हैं कि आपकी दीवानगी उनके लिए बहुत ज्यादा है।

सेक्स से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.. http://chetanonline.com/

Kya Aap Jaante Hain Sambhog Ka Sahi Samay Kya Hai?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *